Friday, October 2, 2009

‘‘ताओ तेह किंग’’ अध्याय 11

  • पहिये की परिधि पर फैली तानें, धुरी पर ही टिकी होती हैं
    धुरी का खोखलापन ही सारा भार वहन करने में सक्षम होता है
  • मिट्टी से जब मूर्तियां बनाई जाती हैं तो उनमें उभारों का आधार उनके पीछे का खोखलापन ही होता है।
  • मिट्टी के घड़े का खोखलापन ही उसे पानी या अन्य चीजें रखने या सहेजने लायक या उपयोगी बनाता है।
  • यदि मकान में खिड़कियां और दरवाजें न हों तो मकान और कब्र में क्या अंतर रहे?
  • शून्य और निर्वात चीजों को उपयोगी बनाते हैं।
  • जो दिख रहा है ऐसा लगता है कि उससे लाभ मिल रहा है, पर उपयोगी और महत्वपूर्ण वो है जो नहीं होता या नहीं दिखता।

1 comment:

  1. sshukria.

    yog marg aur D.K.ROOPAK bahut gaharai rakhte hain.

    ReplyDelete

टिप्‍पणी